वो दिन भी क्या दिन थे 

वो दिन भी क्या दिन थे जब हम तेरे नाम पे मरते थे  तुमसे कोई बात ना थी तेरी मेरी मुलाकात भी ना थी  फिर भी तेरे आगोश में रहते थे वो दिन भी क्या दिन थे जब  हम तेरे नाम पे मरते थे  मैं तेरी यादों में तू मेरे ख्वाबों में तू मेरी है […]

Read More वो दिन भी क्या दिन थे 

बिटिया 

मेरी दुआओं में असर इतना था  ये मैंने सोंचा ना था  वो आई कहीं दूर से ही होगी  शायद शायद पारियों के देश से होगी  पहले उसे किसी ने देखा ना था  वो वो मेरी बिटिया है  सोंचा था उससे कहूँगा  मेरा अक्स मुझे लौटा दे उसने तुम्हें भेजा सितारों के जहां से  लगा मैंने […]

Read More बिटिया 

संयोग या साजिश 

मेरा जाना वन्हा के तेरा आना वन्हा बता भी दे ये संयोग था या तेरी साजिस  मेरा देखना तुझे के तेरा पलट कर देखना मुझे बता भी दे ये संयोग था या तेरी साजिस तुझे देखकर मेरे दिल का धड़कना के मुझे देखकर तेरा मुस्कराना  बता भी दे ये संयोग था या तेरी साजिस मेरा […]

Read More संयोग या साजिश 

खता 

तूने खुद को खुद से अलग कैसे किया होगा  मेरी उस पर पनाह मोहब्बत को जहर कैसे दिया होगा  पर मैं जब सोचता हूं  तेरी इश्के – अदायगी के बारे में  तो लगता है तो लगता है खता तूने नहीं  खता मैंने ही किया होगा  तूने खुद को खुद से अलग कैसे किया होगा  मेरी […]

Read More खता 

फुरसत कहां  

मुझे फुर्सत कहां तेरे दीदार से  सोचता हूं कल कह दूं  तू हां कर दे तो  मुकम्मल हो जाए मेरा प्यार  बस एक तेरे इकरार से  मुझे फुर्सत कहां तेरे दीदार से  मिल कर भी ना कुछ कह सका मैं  उनसे अपने दिल की बात  क्योंकि डर था मुझे उनके इंकार से  मुझे फुर्सत कहां […]

Read More फुरसत कहां  

चाहत 

चाहता हूं मैं तुझे चाहत से भी ज्यादा  मांगता हूं मैं तुझे तेरे देने से भी ज्यादा  चाहता हूं मैं तुझे चाहत से भी ज्यादा आंसू थे बेशक मेरी आंखों में पर  पर उसके लिए नहीं रोया था मैं तेरी बेपनाह मोहब्बत से ज्यादा चाहता हूं मैं तुझे चाहत से भी ज्यादा मेरे पास कुछ […]

Read More चाहत